Breaking News

राजस्थान की जीवन रेखा कहे जाने वाले तालाबों को पुनर्जीवित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा अदाणी फाउंडेशन

सूर्योदय भारत समाचार सेवा : एक टेलीविजन विज्ञापन में जब एक पानी के टैंकर का नोजल खोला जाता है तो सारे ऊंट नाचते हुए दिखाएं जाते हैं, दरअसल यह राजस्थान में कठोर जीवन की वास्तविकता को दर्शाता है, जहां पानी के प्रत्येक कतरे को महत्व दिया जाता है। राजस्थान में रहने वाले प्राणी हों या पशु, हर किसी के लिए पानी जीवन अमृत की तरह है, और खासकर जैसलमेर या बाड़मेर जैसे शुष्क इलाकों में रहने वाले लोग पानी की अहमियत को अच्छी तरह समझते हैं, जो पानी के लिए चिलचिलाती धूप में मीलों दूर का सफर तय करने के लिए मजबूर हैं। ऐसे में वर्षा आधारित मानव निर्मित या प्राकृतिक जलाशय, इस जगह के केंद्र में रहे हैं, जिनके चारों ओर सदियों से मानव बस्तियाँ विकसित होती आई हैं। विशेषकर गाँवों में स्थित तालाब, यहां के लोगों के लिए जीवनरेखा की तरह हैं। टेक्नोलॉजी के विकास और बोरवेल व हैंडपंप की लोकप्रियता के बावजूद, लोगों को एहसास है कि पुश्तैनी तालाब उनकी पहचान के संरक्षक हैं। इसलिए, वे अब तालाबों को पुनर्जीवित करने, उनमें पानी जमा करने और उसका बुद्धिमानी से उपयोग करने की ओर लौट रहे हैं।

अदाणी फाउंडेशन ने इन सूखी भूमि में जल संरक्षण की सख्त जरूरत को पहचाना और जल भंडारण को बढ़ाने से भी आगे बढ़कर एक मिशन शुरू किया। लक्ष्य इन गांवों की जीवन रेखा तालाबों को पुनर्जीवित और संरक्षित करना था। जिसके लिए समुदाय और स्थानीय नेता वास्तुकार बन गए और उत्खनन क्षेत्र, तालाब की गहराई और जलग्रहण क्षेत्र में वृद्धि का निर्णय लिया। उनके निर्णय केवल पानी के इर्द-गिर्द नहीं घूमते थे, बल्कि बच्चों की सुरक्षा, मवेशियों के कल्याण और वर्षा की प्राकृतिक लय की चिंता भी शामिल थी। जैसलमेर के पोखरण में माधोपुर के सरपंच गफूर खान कहते हैं, “सदियों से, हम अपनी पानी की जरूरतों के लिए इन तालाबों पर निर्भर रहे हैं और यह बरसात के मौसम में भर जाता है। लेकिन कम बारिश, जो राज्य के इस हिस्से में आम बात है, और गाद जमा होने से तालाब में पानी रोकना मुश्किल हो जाता है, हालांकि, अदाणी फाउंडेशन द्वारा हमारे नोटेरी तालाब में गाद निकालने और ड्रेजिंग का काम शुरू करने के बाद, अब चीजें बेहतर हैं, जिसमें 10-11 महीने तक पानी रहता है।”

जैसलमेर जिले में जल संरक्षण के प्रयासों, विशेष रूप से पोखरण और फतेहगढ़ के नेदान, माधोपुरा, दवारा, रसाला, अचला और भेंसरैन ब्लॉकों जैसे गांवों में, ने क्षेत्र के जल संसाधनों पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है। इन प्रयासों, जिसके परिणामस्वरूप 70,000 क्यूबिक मीटर से अधिक की कुल संयुक्त भंडारण क्षमता बहाल हुई, ने न केवल स्थानीय समुदायों के लिए पानी की उपलब्धता में वृद्धि की है, बल्कि भूजल पुनर्भरण में भी योगदान दिया है, जिससे भविष्य की पीढ़ियों के लिए पानी का एक स्थायी स्रोत सुनिश्चित हुआ है। यह उल्लेखनीय उपलब्धि सामुदायिक भागीदारी, जिम्मेदार संसाधन प्रबंधन और क्षेत्र की प्राकृतिक विरासत को संरक्षित करने की प्रतिबद्धता के सकारात्मक प्रभाव को दर्शाती है। लोगों का अपनी भूमि, संस्कृति और इतिहास से जुड़ाव मजबूत है। जलस्रोतों को पुनर्जीवित करके जल संरक्षण की फाउंडेशन की पहल इन गांवों के अस्तित्व को सुनिश्चित करती है।

Loading...

Check Also

भ्रष्टाचार और पेपर लीक की आग की लपटों में झुलसते छात्र : अतुल मलिकराम

सूर्योदय भारत समाचार सेवा : भारत की शिक्षा प्रणाली एक भयानक तूफान के चपेट में ...