Breaking News

एचएल: अदाणी सोलर को एनसीक्यूसी 2022 में मिले 7 अवार्ड

सूर्योदय भारत समाचार सेवा, औरंगाबाद : हाल ही में आयोजित कार्यक्रम में देश के विभिन्न हिस्सों से कई प्रतिभागियों ने इस प्रतिष्ठित खिताब के लिए प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लिया, जबकि पुरस्कारों के अपने गुलदस्ते में एक और रत्न जोड़ते हुए, अदाणी ग्रुप की फोटोवोल्टिक मैनुफैक्टरिंग व रिसर्च शाखा, अदाणी सोलर ने 36वें नेशनल कन्वेंशन ऑन क्वालिटी कॉन्सेप्ट्स (एनसीक्यूसी) में कई पुरस्कार अपने नाम किए, एनसीक्यूसी ने गुणवत्ता मूल्यांकन में उत्कृष्टता के लिए अदाणी सोलर को छह उत्कृष्टता और एक विशेष पुरस्कार से सम्मानित किया है।
यह पुरस्कार समारोह औरंगाबाद में आयोजित किया गया था। एनसीक्यूसी, बहुप्रतीक्षित वार्षिक पुरस्कार समारोह का आयोजन, क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ इंडिया (क्यूसीएफआई) द्वारा पूरे देश में गुणवत्ता मूल्यांकन के आधार पर सबसे बेहतरीन इम्प्रूवमेंट प्रोजेक्ट्स को बेंचमार्किंग और पहचान दिलाने के उद्देश्य से किया जाता है।

देश के विभिन्न हिस्सों से भाग लेने वाले कुल 2,031 प्रतियोगियों में से, अदाणी सोलर को दूसरा सबसे बड़ा पुरस्कार और एक विशिष्ट पुरस्कार दिया गया, जिसके बाद इस कार्यक्रम में एक केस स्टडी भी प्रस्तुति की गई। इस केस स्टडी ने दिखाया कि कैसे कंपनी सेल प्रोडक्शन, मॉड्यूल क्वालिटी, मॉड्यूल प्रोडक्शन, और ऐसे अन्य जटिल क्षेत्रों में भी अपने श्रेष्‍ठ प्रदर्शन को बनाए रखने में सफल रही है।
अदाणी सोलर भारत की पहली और सबसे बड़ी वर्टिकली इंटीग्रेटेड सोलर कंपनी है जो फोटोवोल्टाइक्स मैन्युफैक्चरिंग के स्पेक्ट्रम में सेवाएं और प्रोडक्ट प्रदान करती है। एक विविध संगठन के रूप में, ग्लोबल बेंचमार्क के अनुसार, क्षेत्रों में विभिन्न परिचालनों के मामले में, अदाणी सोलर ने हमेशा व्यवस्थित रूप से हर मानक का पालन किया है। यह गुजरात के मुंद्रा में 10 गीगावाट सोलर पीवी जनरेशन का, दुनिया का पहला पूरी तरह से इंटीग्रेटेड और व्यापक इको-सिस्टम भी बना रहा है।क्वालिटी कांसेप्ट पर यह राष्ट्रीय सम्मलेन, एक राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता है जिसके अंतर्गत सगठनों के क्वालिटी सर्कल, 5एस और सिक्स सिग्मा की टीमें एक-दूसरे के खिलाफ प्रतिस्पर्धा करती हैं, जिसमें विभिन्न गुणवत्ता मूल्यांकन जांचों के बाद, सर्वश्रेष्ठ टीम को पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है।

विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से क्वालिटी इम्प्लीमेंटेशन और स्किल डेवलपमेंट के मामले में क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ इंडिया निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह आत्मविश्वास और देशभर में विभिन्न टीमों के भीतर, सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ समस्या को सुलझाने के कौशल को विकसित करने के लिए 5एस, काइज़न, क्यूसी, एलक्यूसी, एलएससी, डब्ल्यूसीएम, सिक्स सिग्मा आदि जैसे इंटीग्रेटेड क्वालिटी का उपयोग करने के लिए जाना जाता है।

Loading...

Check Also

सहकारिता मंत्री ने गुजरात में नैनो यूरिया प्लांट का अवलोकन कर कहा कि जुलाई 2023 से नैनो डीएपी का भी उत्पादन होगा शुरू

अशोक यादव, लखनऊ : सहकारिता राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) जेपीएस राठौर ने शनिवार को गांधीनगर (गुजरात) ...