Breaking News

सेना दिवस 15 जनवरी 1949 ! पहले भारतीय कमांडर-इन-चीफ़ बने थे के एम करियप्पा

सूर्योदय भारत समाचार सेवा : भारत में हर साल15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाता है. इस साल भारत अपना 75वां सेना दिवस मना रहा है.

भारत में इस दिन जश्न मनाने की खास वजह है. ये दिन भारत के इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक की याद दिलाता ! करीब 200 साल के ब्रिटिश शासन के बाद पहली बार किसी भारतीय को भारतीय सेना की बागडोर सौंपी गई थी. इस दिन भारतीय सैनिकों की उपलब्धियों, देश सेवा, अप्रतिम योगदान और त्याग को सम्मानित किया जाता है.

15 जनवरी, 1949 को कमांडर-इन-चीफ़ का पद पहली बार ब्रिटिश सैन्य अधिकारी से भारतीय सैन्य अधिकारी को मिला था. कमांडर-इन-चीफ़ तीन सेनाओं के प्रमुख को कहा जाता है. तब फील्ड मार्शल के एम करियप्पा ने जनरल सर फ्रांसिस बुचर से भारतीय सेना के पहले भारतीय कमांडर-इन-चीफ़ के तौर पर पदभार ग्रहण किया था. फ्रांसिस बुचर भारतीय सेना में कमांडर-इन-चीफ़ का पद धारण करने वाले अंतिम ब्रिटिश व्यक्ति थे. फील्ड मार्शल केएम करियप्पा उस समय लेफ्टिनेंट जनरल थे. उस समय करियप्पा की उम्र थी 49 साल. केएम करियप्पा ने ‘जय हिंद’ का नारा अपनाया जिसका मतलब है ‘भारत की जीत’.

भारतीय सेना का गठन ईस्ट इंडिया कंपनी की सेनाओं से हुआ जो बाद में ‘ब्रिटिश भारतीय सेना’ और स्वतंत्रता के बाद, भारतीय सेना बन गई. भारतीय सेना को विश्व की चौथी सबसे मज़बूत सेना माना जाता है. भारतीय सेना में फील्ड मार्शल की पांच सितारा रैंक वाले दो ही अधिकारी रहे हैं. पहले हैं केएम करियप्पा और दूसरे अधिकारी फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ हैं.

कहा जाता है कि जब करियप्पा फ़तेहगढ़ में तैनात थे तो एक ब्रिटिश अफ़सर की पत्नी को उनका नाम लेने में बहुत दिक्कत होती थी. इसलिए उन्होंने उन्हें ‘किपर’ पुकारना शुरू कर दिया. केएम करियप्पा का जन्म 28 जनवरी, 1900 को कर्नाटक में हुआ था. पहले विश्वयुद्ध (1914-1918) के दौरान उन्हें सैन्य प्रशिक्षण मिला था. 1942 में करियप्पा लेफ़्टिनेंट कर्नल का पद पाने वाले पहले भारतीय अफ़सर बने. 1944 में उन्हें ब्रिगेडियर बनाया गया और बन्नू फ़्रंटियर ब्रिगेड के कमांडर के तौर पर तैनात किया गया.

15 जनवरी 1986 को उन्हें फ़ील्ड मार्शल बनाने की घोषणा की गई. तब उनकी उम्र 86 साल के करीब थी. फ़ील्ड मार्शल करियप्पा ने 1947 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में पश्चिमी कमान संभाली थी. लेह को भारत का हिस्सा बनाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही. नवंबर 1947 में करियप्पा को सेना की पूर्वी कमान का प्रमुख बना कर रांची में तैनात किया गया था.

लेकिन दो महीने के अंदर जैसे ही कश्मीर में हालत ख़राब हुई, उन्हें लेफ़्टिनेंट जनरल डडली रसेल के स्थान पर दिल्ली और पूर्वी पंजाब का जीओसी इन चीफ़ बनाया गया. उन्होंने ही इस कमान का नाम पश्चिमी कमान रखा. उन्होंने तुरंत कलवंत सिंह के स्थान पर जनरल थिमैया को जम्मू-कश्मीर फ़ोर्स का प्रमुख नियुक्त किया.

लेह जाने वाली सड़क तब तक नहीं खोली जा सकती थीं, जब तक भारतीय सेना का जोज़ीला, ड्रास और कारगिल पर कब्ज़ा नहीं हो जाता. ऊपर के आदेशों की अवहेलना करते हुए करियप्पा ने वही किया. अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया होता तो लेह भारत का हिस्सा नहीं बना होता. उनकी बनाई गई योजना के तहत भारतीय सेना ने पहले नौशेरा और झंगर पर कब्ज़ा किया और फिर जोज़ीला, ड्रास और कारगिल से भी हमलावरों को पीछे धकेल दिया.

केएम करियप्पा 1953 में सेवानिवृत्त हो गए थे और 94 साल की उम्र में साल 1993 में उनका निधन हुआ. इस बार सेना दिवस 15 जनवरी को कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में आयोजित किया जाएगा. ऐसा पहली बार है कि सेना दिवस का आयोजन राजधानी दिल्ली से बाहर हो रहा है. हर साल सेना दिवस का दिल्ली छावनी के करियप्पा परेड ग्राउंड में आयोजन किया जाता है.

राष्ट्रीय महत्व के आयोजनों को दिल्ली से बाहर आयोजित करने का फ़ैसला लिया गया था ताकि इनकी पहुंच ज़्यादा से ज़्यादा लोगों के बीच हो और इनमें भागीदारी बढ़ सके “राष्ट्र के लिए दक्षिण भारत के लोगों की वीरता, बलिदान और सेवाओं को पहचान देने के लिए इस ऐतिहासिक कार्यक्रम का आयोजन बेंगलुरु में किया जा रहा है. साथ ही यह फ़ील्ड मार्शल केएम करियप्पा को श्रद्धांजलि है क्योंकि वो कर्नाटक से संबंध रखते हैं.”

आज 15 जनवरी को आर्मी चीफ़ जनरल मनोज पांडे सेना के अभियानों में जान गंवाने वाले जवानों को बेंगलुरु में श्रद्धांजलि दी और सेना दिवस परेड में उपस्थित हुए .

इस परेड में भारतीय सेना की ताकत और क्षमता का प्रदर्शन हुआ . साथ ही ये भी दिखाया कि भारतीय सेना ने भविष्य के लिए तैयार होने और बदलती तकनीक के लिहाज से क्या प्रयास किए हैं.

इसके अलावा मोटरसाइकिल पर कौशल प्रदर्शन, पैरा मोटर्स, कॉम्बैट फ़्री-फॉल जैसी रोमांच से भरी गतिविधियां भी हुई .

“राष्ट्र के लिए दक्षिण भारत के लोगों की वीरता, बलिदान और सेवाओं को पहचान देने के लिए इस ऐतिहासिक कार्यक्रम का आयोजन बेंगलुरु में किया गया . साथ ही यह फ़ील्ड मार्शल के एम करियप्पा को श्रद्धांजलि है क्योंकि वो कर्नाटक से संबंध रखते हैं.”

15 जनवरी को आर्मी चीफ़ जनरल मनोज पांडे सेना के अभियानों में जान गंवाने वाले जवानों को बेंगलुरु में श्रद्धांजलि दी और सेना दिवस परेड में उपस्थित रहे .

इस परेड में भारतीय सेना की ताकत और क्षमता का प्रदर्शन हुआ . साथ ही ये भी दिखाया कि भारतीय सेना ने भविष्य के लिए तैयार होने और बदलती तकनीक के लिहाज से क्या प्रयास किए हैं.

इसके अलावा मोटरसाइकिल पर कौशल प्रदर्शन, पैरा मोटर्स, कॉम्बैट फ़्री-फॉल जैसी रोमांच से भरी गतिविधियां भी हुई .

हर बार सेना दिवस पर कोई न कोई थीम रखी जाती है. इस बार की थीम है ‘रक्तदान करें- जीवन बचाएं’.

इसके तहत दिसंबर से ही रक्तदान शिविर का आयोजन किया जा रहा है.

महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, केरल, तेलंगाना, तमिलनाडु, गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में भारतीय सेना की टुकड़ियों ने 24 दिसंबर, 2022 को रक्तदान अभियान चलाया. इस दौरान 7500 यूनिट रक्त इकट्ठा किया गया और 75 हज़ार स्वयंसेवकों का एक डेटा बैंक भी तैयार किया गया.

बीते वर्ष सेना दिवस की थीम ‘भविष्य के साथ प्रगति में’ थी.

जिसका उद्देश्य आधुनिक युद्ध में विशिष्ट और विनाशकारी तकनीक की बढ़ती भूमिका को रेखांकित करना था.

Loading...

Check Also

किसानों के लहू का हिसाब केंद्र सरकार को देना होगा, चौधरी चरण सिंह भारत रत्न से भी बहुत बड़े रत्न थे- सुनील सिंह

अनुपूरक न्यूज एजेंसी, लखनऊ। लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी सुनील सिंह गुरुवार को लखनऊ स्थित लोकदल ...