Breaking News

लखनऊ: पीजीआई में डॉक्टरों ने रचा इतिहास, रोबोटिक सर्जरी से किया किडनी ट्रांसप्लांट

लखनऊ। राजधानी के संजय गांधी पीजीआई में डॉक्टरों ने रोबोटिक सर्जरी को सफल बनाते हुए यूपी में एक इतिहास रच दिया है। डॉक्टरों ने बताया कि ये प्रदेश का पहला किडनी ट्रांसप्लांट है इससे पहले कभी ऐसा नहीं हुआ है। डॉक्टरों के मुताबिक रोबोटिक तकनीक का पहले कभी इस्तेमाल नहीं किया गया है।

यहां नेफ्रोलॉजी विभाग के प्रमुख प्रो. नारायण प्रसाद ने बताया कि बाराबंकी जिले की 42 वर्षीय महिला को किडनी की बीमारी थी। वह 2019 में प्रो. नारायण प्रसाद के पास सलाह लेने आयी थी। जांच में पता चला कि उनकी किडनी काम नहीं कर रही है।

प्रो. प्रसाद के अनुसार, तुरंत किडनी ट्रांसप्लांट संभव नहीं था। इसलिए महिला को अप्रैल 2019 से हीमोडायलिसिस पर रखा गया। घर में और कोई डोनर नहीं था तो मरीज की 61 वर्षीय मां ने किडनी देने का फैसला लिया।

मां और बेटी का इम्यूनोलाजिकल मिलान हुआ तो पता चला कि दोनों की किडनी मैच कर रही है। फिर प्रत्यारोपण सर्जरी की योजना बनाई गई। शुक्रवार को सर्जरी की गई। संस्थान के निदेशक प्रोफेसर आरके धीमान ने रोबोटिक सर्जरी करने वाली टीम को बधाई दी। कहा कि इस दिन का इंतजार था।

इस तरह मानी गयी सफलता
डॉक्टरों ने बताया कि मरीज में सर्जरी के बाद तेज मूत्र उत्पादन और निकासी देख कर तय हो गया है कि ट्रांसप्लांट पूरी तरह सफल है। डॉक्टरों ने कहा कि अगर यहां पर दिक्कत होती तो ट्रांसप्लांट असफल हो सकता था। डॉक्टरों ने बताया कि इस सर्जरी में एक दर्जन डॉक्टरों ने अहम भूमिका निभायी है।

रोबोटिक तकनीक मरीजों के लिए फायदेमंद
पीजीआई के डॉक्टरों ने बताया कि इस तकनीक से आपरेशन के बाद मरीजों को अस्पताल में कम दिनों तक रुकना पड़ता है। रोबोटिक सर्जरी में पारंपरिक प्रत्यारोपण सर्जरी की तुलना में बहुत छोटे चीरे लगाए जाते हैं। इसमें आपरेशन के बाद दर्द भी कम होता है। ओपन सर्जरी में प्रत्यारोपित गुर्दा के आसपास द्रव एकत्र होने की आशंका रहती है, जो कई बार परेशानी खड़ी करता है। रोबोटिक सर्जरी में इसकी आशंका कम रहती है। डॉक्टरों के मुताबिक रोबोटिक रीनल ट्रांसप्लांट न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी के क्षेत्र में अत्याधुनिक तकनीक है।

इन डॉक्टरों ने निभायी अहम भूमिका
—प्रोफेसर अनीश श्रीवास्तव,
—प्रोफेसर नारायण प्रसाद
— प्रोफेसर राजेश अहलावत
— प्रोफेसर अनिल अग्रवाल
— प्रोफेसर संदीप साहू

Loading...

Check Also

अरुण बाल्मीकि की मौत पुलिस हिरासत में हुई है, परिवार न्याय मांग रहा है, मिलने जाने से रोकना औचित्यहीन- प्रियंका गांधी वाड्रा

राहुल यादव, लखनऊ । भगवान बाल्मीकि जयंती के दिन पुलिस की अभिरक्षा में क्रूरता का ...