Breaking News

ईसरवारा से नरियावली तिहरीकरण रेल लाइन कार्य का रेल संरक्षा आयुक्त ने किया निरीक्षण

अनुपूरक न्यूज़ एजेंसी, जबलपुर। पश्चिम मध्य रेल, जबलपुर मंडल के कटनी-बीना रेल खंड पर ईसरवारा से नरियावली स्टेशन के मध्य 09 किलोमीटर तिहरीकरण रेल लाइन कार्य का रेल संरक्षा आयुक्त, द्वारा निरीक्षण किया गया। औद्योगिक क्षेत्रों से जुड़े रेल लाइन परियोजनाओं को पश्चिम मध्य रेल अधोसरंचना निर्माण कार्य को गति प्रदान कर रहा है। पश्चिम मध्य रेल, जबलपुर मंडल के कटनी-बीना रेल खंड पर ईसरवारा से नरियावली स्टेशन के मध्य 09 किलोमीटर तिहरीकरण रेल लाइन कार्य का दिनांक 30.09.2022 को रेल संरक्षा आयुक्त, (मध्य वृत) मुंबई मनोज अरोरा द्वारा निरीक्षण किया गया। इस अवसर पर मुख्यालय से प्रमुख विभागाध्यक्ष, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण) एवं मंडल के मंडल रेल प्रबंधक और इंजीनियरिंग, परिचालन, इलेक्ट्रिकल, सिग्नल एवं दूरसंचार विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

निरीक्षण के दौरान रेल संरक्षा आयुक्त ने इस रेलखंड पर संरक्षा एवं सुरक्षा से जुड़े ट्रैक, ब्रिजों, स्टेशन, संसाधनों, ओएचई लाइन, सम्बद्ध उपकरण तथा सिगनलिंग आदि का निरीक्षण किया और उनके कार्य क्षमता को परखा। इस रेलखण्डों पर सभी प्रकार के रेलवे मापदंडों के अनुसार निर्माण कार्य किया गया है। ईसरवारा से नरियावली रेलखण्ड पर 02 रेलवे स्टेशनों ईसरवारा एवं नरियावली का भी संरक्षा की दृष्टि से निरीक्षण किया। ईसरवारा से नरियावली के मध्य रेलखण्ड पर 01 मेजर ब्रिज और 06 छोटे ब्रिज का निर्माण कार्य किया गया है। इस दौरान ईसरवारा एवं नरियावली के मध्य तिहरीकरण रेल लाइन पर इलेक्ट्रिक इंजन से 124 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से सफल स्पीड ट्रायल भी किया गया।

पमरे ने वर्ष 2022-23 में दोहरीकरण एवं तिहरीकरण का कुल 63 किमी और वर्ष 2021-22 में दोहरीकरण एवं तिहरीकरण का कुल 166 किमी का कार्य पूर्ण किया है। पूर्ण किये गए कार्यो की प्रगति इस प्रकार है।

कार्य की गुणवत्ता एवं स्पीड ट्रायल पर रेल संरक्षा आयुक्त ने संतुष्टि व्यक्त की। इस रेलखण्ड के कमीशन होते ही गाड़ियों का परिचालन शुरू हो जाएगा। तिहरीकरण होने से गाड़ियों की रफ्तार बढ़ेगी और इस क्षेत्र का आर्थिक विकास भी होगा। ईसरवारा से नरियावली रेलखण्डों का तिहरीकरण हो जाने से गाड़ियों की गति बढ़ेगी और मालगाड़ियों के परिचालन में सुगमता आएगी। साथ ही मध्य प्रदेश राज्य के औद्योगिक क्षेत्र का आर्थिक विकास भी होगा।

Loading...

Check Also

यहां चूके मोदी : अतुल मलिकराम

सूर्योदय भारत समाचार सेवा : 4 जून भारतीय राजनीतिक इतिहास का एक महत्वपूर्ण दिन रहा ...