Breaking News

आज लॉन्च होने जा रहा है पढ़ो बढ़ो गुरुकुल, छात्रों युवाओं को भारतीय संस्कृति से जोड़ने की पहल

सूर्योदय भारत समाचार सेव, नई दिल्ली / लखनऊ : एजुकेशन सेक्टर में काम कर रही स्टार्टअप कंपनी पढ़ो बढ़ो भारतीय छात्रों एवम युवाओं के लिए एक अनोखा कांसेप्ट लेकर आ रही है। इस कॉन्सेप्ट को कंपनी ने पढ़ो बढ़ो गुरुकुल नाम दिया है। पढ़ो बढ़ो गुरुकुल की खास बात यह है की इसमें प्रधानमंत्री बाल शक्ति 2022 के विजेता अवि शर्मा साथ जुड़कर भारतीय संस्कृति एवं परंपराओं के साथ जोड़ने का प्रयास करेंगे। यहां आपको बताना चाहेंगे की प्रधानमंत्री बाल शक्ति पुरुस्कार भारत में बच्चो के लिए सर्वोच्च पुरस्कार माना जाता है।

पढ़ो बढ़ो गुरुकुल कांसेप्ट छात्रों एवम युवाओं को डिजिटल संवाद के माध्यम से भारतीय संस्कृति से जोड़ने की एक पहल है। इसके तहत कार्यक्रम में जुड़ने वाले भारत के गहन ज्ञान और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को गहराई से जान सकेंगे। पढ़ो बढ़ो गुरुकुल कांसेप्ट तीन महीने का निशुल्क डिजिटल प्रोग्राम है जिसमे भारत की प्राचीन परम्पराओं के बारे में मानसिक डेवलपमेंट करते हुए भाग लेने वाले सदस्यों को एक नए परिवर्तन की अनुभूति करवाएगा।

इस प्लेटफॉर्म पर जुड़कर छात्र एवं युवा मौजूदा समय में स्वयं को सामंजस्य एवं उद्देश्य परक बना सकेंगे। ऐसे में यह कार्यक्रम आपके घर के बच्चो एवम युवाओं के लिए महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। इस कार्यक्रम का डिजिटल शुभारंभ आज 29 अक्टूबर को प्रातः 11 बजे होगा। जिसमे आपको यू ट्यूब के माध्यम से कनेक्ट होना है। इस आयोजन के यू ट्यूब स्ट्रीम का लिंक https://bit.ly/495UPX9 है। यू ट्यूब पर Padhobadho Gurukool टाइप करके भी चैनल पर जाकर इस वर्चुअल इवेंट में छात्र एवं युवा शामिल हो सकते हैं !

इस आयोजन में यूपी के लखनऊ की जानी मानी सोशल एक्टिविस्ट वर्षा वर्मा शामिल होंगी एवम साथ ही एमआईटी स्कूल ऑफ आर्ट एंड थिएटर एवम विश्वशांति दर्शन चैनल के सीईओ डॉ मुकेश शर्मा भी मौजूद रहेंगे

पढ़ो बढ़ो एक एडटेक स्टार्टप कंपनी है जिसका मकसद किसी भी अवस्था ( ग्रामीण या शहरी) में रहने वाले छात्रों को हाई क्वालिटी फ्री एजुकेशन उपलब्ध करवाना है।

कंपनी की तरफ से श्री अरबिंदो सोसायटी की तरफ से आरो स्कॉलर के तहत एक हजार मासिक स्कॉलरशिप भी मिलती है। कंपनी स्कूली व्यवस्था एजुकेशन के साथ ही स्किल एवम पर्सनेलिटी डेवलपमेंट पर फोकस करती है।

Loading...

Check Also

बुंदेलखंड के बेहतर भविष्य के लिए महत्वपूर्ण कदम ‘5 लाख हस्ताक्षर अभियान’ : अतुल मलिकराम

सूर्योदय भारत समाचार सेवा : बुंदेलखंड के मूल निवासी भले वह उत्तर प्रदेश के हिस्से ...