Breaking News

9 जुलाई को मारे आतंकी के साथियों की तलाश

भारतीय सेना ने एलओसी के पास बारामूला जिले के उरी सेक्टर में एक बड़ा सर्च ऑपरेशन शुरू किया है. सेना को शक है कि यहां पर कई आतंकी छुपे हुए हैं. दरअसल, आर्मी ने 9 जुलाई को सेना ने उरी सेक्टर में कुछ आतंकियों पर फायरिंग की थी, जिसमें एक आतंकी मारा गया था. सेना अब उसी के साथियों के तलाश में ये सर्च ऑपरेशन चला रही है.

बता दें कि 10 जुलाई की रात श्रीनगर से जम्मू आ रही अमरनाथ यात्रियों की बस पर आतंकियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की थी. इस हमले में 7 तीर्थयात्रियों की मौत हो गई थी, जबकि 19 घायल हुए थे. हमले के बाद सरकार ने कहा था कि आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा.

गौरतलब है कि बुधवार को भी जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में पाकिस्तान की ओर से फायरिंग में 2 जवान शहीद हो गए थे. पाकिस्तानी आर्मी की तरफ से कुपवाड़ा के फुर्गी में एलओसी पर जमकर फायरिंग की गई, जिसमें भारतीय सेना के 2 जवान शहीद हो गए. इससे पहले बुधवार सुबह ही पाकिस्तानी सेना ने नियंत्रण रेखा से सटे पुंछ के बालाकोट इलाके में एक बार फिर संघर्षविराम उल्लंघन किया. पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना किसी उकसावे के ही भारतीय सेना की अग्रिम चौकियों और रिहायशी इलाकों पर मोर्टार से निशाना बनाया. रक्षा विभाग से जुड़े सूत्रों ने कहा कि हमारे जवानों ने भी पाकिस्तानी गोलीबारी का माकूल जवाब दिया.

पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने इससे पहले शनिवार को भी जम्मू कश्मीर में संघर्षविराम का उल्लंघन किया था, जिसमें भारतीय सेना के एक जवान और उनकी पत्नी की मौत हो गई. इसके बाद भारतीय जवानों ने भी मुंहतोड़ जवाबी कार्रवाई की और पाक सेना की तीन चौकियों को तबाह कर दिया. इस जवाबी कार्रवाई में दो पाकिस्तानी सैनिकों के मारे जाने और कुछ अन्य के घायल होने का भी पता चला है.

पाकिस्तान की ओर से जून महीने में संघर्षविराम उल्लंघन की 23 घटनाएं, पाकिस्तान के विशेष दस्ते का एक हमला और घुसपैठ की कोशिशों की दो घटनाएं हुई हैं, जिनमें तीन जवान शहीद होने के साथ चार लोगों की मौत हो गई थी और 12 अन्य घायल हो गए थे.
Loading...

Check Also

मन्त्री दया शंकर सिंह ने किया ‘कोफास-2022’ का उद्घाटन

नीरजा चौहान, लखनऊ : सिटी मोन्टेसरी स्कूल, राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) द्वारा आयोजित चार दिवसीय ...