Breaking News

शेयर बाजार धड़ाम, सेंसेक्स 1939 अंक और निफ्टी 568 अंक फिसला

अमेरिका में ब्याज दरों में बढ़ोतरी की उम्मीद और सीरिया पर अमेरिका के हमले की खबर से वैश्विक बाजार में हुई भारी बिकवाली का असर आज घरेलू शेयर बाजार पर भी दिखा जिससे घरेलू स्तर पर करीब 4 फ़ीसदी की गिरावट देखी गई।

इससे बीएसई का सेंसेक्स 1939.32 अंक गिरकर 50 हजार अंक के स्तर से नीचे 49099.99 अंक पर आ गया और एनएसई का निफ्टी भी 568.26 अंक फिसल कर 14529.15 अंक पर रहा।

गुरुवार को अमेरिकी बाजारों में भारी गिरावट देखी गई। अमेरिकी वॉल स्ट्रीट बाजार का मेन इंडेक्स भरभरा गया। असल में अमेरिका के ट्रेजरी बॉन्ड के यील्ड में भारी बढ़त हुई है जिससे वहां ब्याज दरें बढ़ने के आसार बने हैं, इसकी चिंता में शेयर बाजार टूटा।

अमेरिकी बाजार में टेक्नोलॉजी शेयर काफी टूट गए। इसके असर से आज एश‍ियाई और ऑस्ट्रेलिया के शेयर बाजारों में भी भारी गिरावट देखी गई। जापान का निक्केई 3.99 फीसदी, हॉन्ग कॉन्ग का हैंग संग 3.64प्रतिशत, चीन का शंघाई कंपोजिट 2.12फीसदी टूट गया। यूरोपीय बाजार भी लाल निशान में खुले। इसके बाद सीरिया पर अमेरिकी एयरस्ट्राइक की खबरों से तो बाजार बिल्कुल पस्त ही हो गया।

कमजोर अंतरराष्ट्रीय संकेतों की वजह से हफ्ते के अंतिम दिन शेयर बाजार में जबरदस्त गिरावट रही है। सुबह बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 783 अंकों की गिरावट के साथ 50,256.71 पर खुला। शुरुआत में ही यह 50400.31अंक के उच्चतम स्तर तक चढ़ा लेकिन बाद में शेयर बाजार की गिरावट बढ़ने लगी।

अमेरिका द्वारा सीरिया पर बमबारी की खबर से दोपहर के बाद गिरावट बढ़ती चली गई और 49 हजार अंक के स्तर से नीचे 48890.48अंक के निचले स्तर तक फिसल गया। अंत में यह पिछले दिवस के 51039.31अंक को तुलना में 1939.32अंक यानी 3.80प्रतिशत गिरकर 49099.99 अंक पर आ गया।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 209 अंकों की गिरावट के साथ 14,888.60अंक पर खुला। खुलते ही यह 14919.45अंक के स्तर तक चढ़ा लेकिन बिकवाली का दबाव बनने से यह 14467.75 अंक के निचले स्तर तक टूट गया। अंत में यह पिछले दिन के 15097.35अंक की तुलना में 568.26अंक यानी 3.76फीसदी गिरकर 14529.15 अंक पर रहा। निफ्टी में शामिल सभी कंपनियां लाल निशान में रही।

Loading...

Check Also

कर्फ्यू और लॉकडाउन से न थमे इकॉनमी की रफ्तार, नया पैकेज लाएगी मोदी सरकार

अशाेक यादव, लखनऊ। कोरोना के बढ़ते मामले के बीच अर्थव्यवस्था की रिकवरी पटरी से न उतरे ...