Breaking News

मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग को बनाना होगा जीवनशैली का अंग: सीएम योगी

अशाेेेक यादव, लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में प्रतिदिन 50 हजार लोगों का कोरोना टेस्ट करने का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आरटीपीसीआर से 30 हजार, रैपिड एन्टीजन से 18-20 हजार तथा ट्रूनैट मशीन से 2-2.5 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं।

वाराणसी, बलिया, गाजियाबाद तथा झांसी में सैम्पल कलेक्शन में वृद्धि की जाए। सोमवार को एक उच्च स्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा करते हुए सीएम योगी ने कहा, हर शनिवार व रविवार को पूरे प्रदेश में स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन का विशेष अभियान चलाया जाए।

स्वच्छता तथा सेनिटाइजेशन के लिए जनपदवार नामित सभी नोडल अधिकारी मुख्यालय से अपने-अपने प्रभारी जनपद के कार्यों की समीक्षा करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि साप्ताहिक बन्दी के दौरान बाजारों में स्वच्छता तथा सेनिटाइजेशन का विशेष अभियान संचालित किया जाए। सर्विलांस टीम घर-घर जाकर लोगों की स्क्रीनिंग करें। संदिग्ध लक्षणों वाले लोगों की मेडिकल टेस्टिंग की जाए।

जांच में कोविड-19 से संक्रमित पाए गए लोगों के समुचित उपचार की व्यवस्था की जाए। अस्पतालों में वरिष्ठ चिकित्सक राउण्ड अवश्य करें। उन्होंने पुलिस बल को संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए सभी सावधानियां बरतने के निर्देश भी दिए।

जनपद वाराणसी, झांसी, कानपुर नगर, बरेली, देवरिया, गोरखपुर, बलिया तथा आजमगढ़ में विशेष सतर्कता बरती जाए। अधिक संक्रमण वाले जनपदों में मेडिकल जांच के लिए मोबाइल टेस्टिंग वैन का उपयोग किया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग तथा मास्क के उपयोग को जीवनशैली का अंग बनाना होगा। मास्क न पहनने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। प्रदेश भर में कोविड-19 प्रोटोकाॅल का पूर्ण पालन कराया जाए।

मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को जनपदों में सीएमओ तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग को सभी मेडिकल काॅलेजों के प्रधानाचार्यों से नियमित संवाद रखते हुए कार्यों की जानकारी प्राप्त करने के निर्देश भी दिए।

Loading...

Check Also

राम मंदिर भूमि पूजन के लिए अयोध्या पहुंचे पीएम मोदी, सीएम योगी आदित्यनाथ ने की अगवानी, चारों ओर ‘जय श्री राम’ की गूंज

अशाेेेक यादव, लखनऊ। बरसों बरस का इंतजार अब से कुछ ही देर में खत्म होने ...