Breaking News

महाविद्यालयों और विश्‍वविद्यालयों की स्‍थापना का काम तेजी से किया जा रहा: योगेंद्र उपाध्याय

अशाेक यादव, लखनऊ। प्रदेश में शिक्षा के जरिए पिछले पांच सालों में कई सकारात्‍मक बड़े बदलाव देखने को मिले हैं। युवाओं को अच्‍छी गुणवत्‍तापूर्ण शिक्षा देने के लिए प्रतिबद्ध प्रदेश सरकार के लक्ष्‍य प्राप्‍त करने के लिए उच्च शिक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी आई.टी. और इलेक्ट्रॉनिक विभाग तेज गति के साथ काम कर रहे हैं।

राज्य में नए विश्‍वविद्यालयों और महाविद्यालयों को शुरू करने का काम तेजी से किया जा रहा है ये बातें रविवार को उच्च शिक्षा मंत्री योगेंद्र उपाध्याय ने लोकभवन में आयोजित सौ दिवस के रिपोर्ट कार्ड को पेश करते हुए कहीं। उन्‍होंने कहा कि विभाग की ओर से निर्धारित सौ दिनों के लक्ष्‍यों को प्राप्‍त कर लिया गया है। जिसके तहत प्रदेश में महाविद्यालयों और विश्‍वविद्यालयों की स्‍थापना का काम तेजी से किया जा रहा है।

उन्‍होंने कहा कि नए विश्‍वविद्यालयों की स्‍थापना के लिए दी जाने वाली परमिशन को सरल, सहज करने का काम किया जा रहा है। राजकीय महाविद्यालयों में 172 पदों पर प्रोफेसर की पदोन्‍नति की जा चुकी है। अशासकीय सहायता प्राप्‍त महाविद्यालयों में 422 एसोसिएट प्रोफेसर को प्रोफेसर बनाया गया। नीजि विश्‍वविद्यालयों की स्‍थापना के लिए प्रक्रिया को सरल करते हुए ऑनलाइन पोर्टल बनाया गया है। मथुरा और ग्रेटर नोएडा में यूनिवर्सिटी की स्‍थापना के लिए संस्‍तुति दी जा चुकी है। प्रदेश में ई लर्निंग पार्क की स्‍थापना व चार राजकीय महाविद्यालयों का काम पूरा कर लिया गया है।

उन्‍होंने बताया कि आईटी विभाग की ओर से निवेशकों को प्रेरित किया गया है जिसके तहत 20 हजार करोड़ के निवेश का अनुमोदन किया जा चुका है। उन्‍होंने कहा कि आगरा, गौतमबुद्धनगर, सोनभद्र, मैनपुरी बिजनौर में र्स्‍टाटअप इको सिस्टम के विकास के लिए अनुमोदन किया गया है।

Loading...

Check Also

यूपी को शीघ्रता से उर्वरक सप्लाई के लिए कृषि मंत्री शाही ने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन से की मुलाकात

राहुल यादव, लखनऊ : कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने उत्तर प्रदेश में डीएपी उर्वरक की ...