Breaking News

भारतीय नौसेना से हाथ मिलाना चाहता है चीन

बीजिंग/नयी दिल्ली: डोकलाम क्षेत्र को लेकर लगातार भारत को आंखें दिखा रहा चीन, हिन्द महासागर में भारतीय नौसेना से हाथ मिलाना चाहता है। यही नहीं चीन के तटीय शहर झानजियांग में चीन ने सामरिक दक्षिण सागर बेड़े (एसएसएफ) के अड्डे को पहली बार भारतीय पत्रकारों के लिए खोला। पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी (प्लान) के अधिकारियों ने कहा कि हिंद महासागर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लिए एक साझा स्थान है। चीन के एसएसएफ के जनरल ऑफिस के उप प्रमुख कैप्टन लियांग तियानजुन ने कहा, ‘मेरी राय है कि चीन और भारत हिंद महासागर की संरक्षा एवं सुरक्षा के लिए संयुक्त तौर पर योगदान कर सकते हैं।’

उन्होंने हिंद महासागर में चीनी युद्धपोतों और पनडुब्बियों की बढ़ती सक्रियता को भी स्पष्ट किया। हालांकि विश्लेषकों का मानना है कि विदेश में चीन का पहला सैन्य अड्डा स्थापित करना अपनी वैश्विक पहुंच बढ़ाने की पीएलए की महत्वाकांक्षा के अनुसार ही है। हिंद महासागर में चीन की मौजूदगी बढ़ रही है। इस पर भारत असहज है। इस तरह के सवाल पर लियांग ने कहा कि चीन की सेना की प्रकृति आक्रामक नहीं रक्षात्मक है। उन्होंने यह भी साफ किया कि चीन कभी ‘दूसरों देशों में घुसपैठ नहीं करेगा, लेकिन दूसरे देशों से बाधित भी नहीं होगा।’

Loading...

Check Also

कौन बनेगा नेपाल का प्रधानमंत्री ? केपी ओली, शेर बहादुर देउबा, पुष्प कमल दहल, गगन थापा, रामचंद्र पौडयाल या प्रकाश मान सिंह ? जोड़तोड़ जारी

संसद, काठमांडू काठमांडू : नेपाल में संसदीय चुनाव तो हो गये लेकिन प्रधानमंत्री कौन बनेगा ...