Breaking News

बैंकों ने दी 1.38 लाख करोड़ के कर्ज की मंजूरी

अशाेेेक यादव, लखनऊ। देश के सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ-साथ निजी बैंकों द्वारा 100 फीसदी इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम के तहत तीन अगस्त तक 1.38 लाख करोड़ रुपये कर्ज की मंजूरी दी गई है। यह जानकारी वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के कार्यालय द्वारा किए गए एक ट्वीट से मिली।

इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम  तहत सरकार सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम यानी एमएसएमई सेक्टर की नकदी की समस्या का समाधान प्राथमिकता के आधार पर सुनिश्चित करना चाहती है।

बैंकों द्वारा ईसीएलजीएस के तहत 92,000 करोड़ रुपये का कर्ज पहले ही दिया जा चुका है। बीते 18-20 दिनों के दौरान कर्ज को मंजूरी प्रदान करने में बड़ी तेजी आई है जब इसमें करीब 15,000 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई और कर्ज बांटने में करीब 25,000 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है।

वित्तमंत्री के कार्यालय ने एक ट्वीट में बताया, “तीन अगस्त 2020 तक 100 फीसदी इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम के तहत पीएसबी और प्राइवेट बैंकों द्वारा मंजूर किए गए कर्ज की राशि 1,37,586.54 करोड़ रुपये है जिसमें से 92,090.24 करोड़ रुपये पहले ही बांटे जा चुके हैं।”

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा 72,820.26 करोड़ रुपये कर्ज की मंजूरी दी गई है, जिनमें से 52,013.73 करोड़ रुपये का वितरण हो चुका है। इसी प्रकार निजी बैंकों द्वारा 64,766.28 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई है, जिनमें से 40,076.52 करोड़ रुपये का वितरण हो चुका है।

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज में वित्तमंत्री ने जिन स्कीमों की घोषणा की उनमें सबसे बड़े वित्तीय घटक के तौर पर ईसीएलजीएस है।

आत्मनिर्भर पैकेज के तहत सरकार ने एमएसएमई और छोटे कारोबारियों के लिए तीन लाख करोड़ रुपये अतिरिक्त कर्ज देने की योजना की घोषणा की है।

Loading...

Check Also

सोने-चांदी की कीमतों में गिरावट थमी

सर्राफा बाजारों में सोने-चांदी के भाव में लगातार हो रही गिरावट आज थम गई। देश भर के ...