Breaking News

प्रयागराज मंडल में तेज हुआ सिग्नललिंग का आधुनिकीकरण

               

राहुल यादव, लखनऊ। उत्तर मध्य रेलवे का प्रयागराज डिवीजन अपने इनोवेशन के लिए देश भर में जाना जाता है। मंडल के सिग्नल और दूरसंचार विभाग द्वारा सिग्नलिंग उपकरणों के आधुनिकीकरण के चल रहे कार्य के तहत  रेल परिचालन में समय की पाबंदी और सुरक्षा दोनों को बेहतर  करने के लिए सिग्नलिंग सिस्टम मे लगातार सुधार किया जा रहा है।उ. म. रे. के प्रयागराज मण्डल के जन संपर्क अधिकारी केशव त्रिपाठी ने बताया कि सिग्नल और दूरसंचार विभाग द्वारा त्वरित गति से वार्षिक लक्ष्य को पूरा करने के प्रयास किया जा रहा है तथा  प्रयागराज – कानपुर खंड के तीन  ब्लॉक सेक्शनों, सत्नरैनी – रसुलाबाद, ब्लॉक हट – सिराथू एवं सिराथू – अथसराय  तथा नैनी – मानिकपुर खंड के दो  ब्लॉक सेक्शनों, डभौरा – पनहाइ एवं पनहाइ – मानिकपुर,  में ब्लॉक प्रोविंग एक्सल काउंटर कमीशन किया गया है । BPAC एक आधुनिक प्रणाली है जिसका उपयोग दो स्टेशनों  के बीच ब्लॉक खंड में एक ट्रेन के जाने के बाद दूसरी ट्रैन के लिए वही ब्लॉक खंड खाली है की नहीं को सुनिश्चित करता है। यह स्टेशन मास्टर को यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि ब्लॉक सेक्शन किसी ट्रेन के आगमन के लिए सुरक्षित है या नहीं ।  इस प्रकार यह मानवीय भूल से भारतीय रेल को होने वाले संभावित नुकसान को समाप्त करता है। 
       सिग्नल प्रणाली में लगातार सुधार लाने के क्रम में कानपुर-इटावा खंड के पाता  स्टेशन पर HASDAC ऐक्सल काउंटर का कमिसनिंग दिनांक 31.07.2020 को किया गया ।  सिग्नल विभाग द्वारा ऐसे सभी बड़े यार्ड में डी० सी० ट्रैक सर्किट के साथ एक्सल काउंटर लगाया जा रहा है जहाँ बाहरी व्यक्तिओं द्वारा अथवा बरसात के कारण जल भराव होने पर सिग्नल फ़ेल हो जाता है तथा रेल परिचालन बुरी तरह प्रभावित होता है। सिग्नल बिभाग  द्वारा   पाता  स्टेशन पर 1T, UMT, DMT, DLT & 20T डी० सी० ट्रैक सर्किट के साथ सिंगल सेक्शन डिजिटल एक्सल काउंटर लगा कर डूअल डिटेक्शन का कार्य पूरा किया गया। इस सिस्टम में प्रत्येक ट्रैक के लिए दो एक्सल काउन्टर लगाए गए है जो  ऑटो-रीसेट फीचर से लैस है। इसे विशेष परिस्थिति में मैनुअल रीसेट भी किया जा सकता है। इससे बरसात के मौसम में जलभराव के कारण अब डी० सी० ट्रैक फेल होने पर भी गाड़ियों का संचालन बाधित नही होगा।
शुक्रवार को सिग्नल एवं दूरसंचार विभाग द्वारा कानपुर सेंट्रल स्टेशन के अत्याधुनिक सीसीटीवी कण्ट्रोल रूम के संचालन की बागडोर ट्रायल पुरा करने के बाद आरपीएफ को हस्तांतरित कर दिया गया। अब यह कण्ट्रोल रूम रेलवे  सुरक्षा बल के अधीन रहेगा।  यात्रिओं की सुरक्षा के लिए कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर 114 अत्याधुनिक सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है। साथ ही,  कण्ट्रोल रूम में 75” के छः तथा  40“ के  दो एलईडी मॉनिटर सीसीटीवी फुटेज  को  मॉनिटर करने के लिए लगाए गए  हैं। अब स्टेशन पर यात्रिओं  के  साथ  होने  वाले  अपराध पर काफी हद तक अंकुश लगाया जा सकेगा ।                                                                                    

Loading...

Check Also

राम जन्मभूमि अयोध्या धाम भूमि पूजन: डिप्टी CM डाॅ. दिनेश शर्मा को मिली जिम्मेदारी, आज अयोध्या होंगे रवाना

अशाेेेक यादव, लखनऊ। अयोध्या में बुधवार को भूमि पूजन होना है। जिसके लिए पीएम मोदी ...