Breaking News

पटरी पर लौटी भारतीय अर्थव्यवस्था, तीसरी तिमाही में जीडीपी 0.4 फीसदी बढ़ी

कोरोना वायरस महामारी के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था में चालू वित्त वर्ष में लगातार दो तिमाही में गिरावट के बाद तीसरी तिमाही अक्टूबर-दिसंबर में 0.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) के शुक्रवार को जारी आंकड़े में यह जानकारी दी गयी है।

इससे पूर्व वित्त वर्ष 2019-20 की इसी तिमाही में अर्थव्यवस्था में 3.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। एनएसओ के राष्ट्रीय लेखा के दूसरे अग्रिम अनुमान में 2020-21 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 8 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान जताया गया है।

जनवरी में एनएसओ ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 में अर्थव्यवस्था में 7.7 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान जताया था। एक साल पहले 2019-20 में जीडीपी में 4 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी।

कोरोना वायरस महामारी और उसकी रोकथाम के लिये लगाये गये ‘लॉकडाउन’ के कारण चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में अर्थव्यवस्था में 24.4 प्रतिशत की गिरावट आयी थी।

वहीं दूसरी तिमाही जुलाई-सितंबर में जीडीपी में 7.3 प्रतिशत की गिरावट आयी थी। चीन की अर्थव्यवस्था में अक्टूबर-दिसंबर, 2020 में 6.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। वहीं जुलाई-सितंबर में वृद्धि दर 4.9 प्रतिशत रही थी।

इसमें कहा गया है कि तीसरी तिमाही में कृषि , वानिकी और मत्स्य पालन क्षेत्र की वृद्धि दर 3.9फीसदी रही है। बिजली गैस जलापूर्ति और अन्य यूटिलिटी सेवाएं 7.3 प्रतिशत की दर से बढ़ी है। इस दौरान निर्माण गतिविधियां भी 6.2 फ़ीसदी की दर से बढ़ी है।

वित्तीय, रियल स्टेट और पेशेवर सेवाओं में भी 6.60फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है। इस तिमाही में विनिर्माण गतिविधियों की पटरी पर लौटी हैं और इस क्षेत्र में 1.6 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

Loading...

Check Also

कर्फ्यू और लॉकडाउन से न थमे इकॉनमी की रफ्तार, नया पैकेज लाएगी मोदी सरकार

अशाेक यादव, लखनऊ। कोरोना के बढ़ते मामले के बीच अर्थव्यवस्था की रिकवरी पटरी से न उतरे ...