Breaking News

नोवेल कोरोना वायरस महामारी के कारण एलजी वैश्विक ओएलईडी टीवी बाजार पर पड़ेगा कोरोना का असर, क्यूएलईडी की बढ़ेगी बिक्री

अशाेेेक यादव, लखनऊ। दक्षिण कोरिया की एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स के नेतृत्व में, वैश्विक ओएलईडी टीवी बाजार में इस साल क्यूएलईडी टीवी क्षेत्र की तुलना में अपेक्षाकृत कम वृद्धि होने की उम्मीद है। नोवेल कोरोना वायरस महामारी के कारण पैनल आपूर्ति में व्यवधान के बाद यह संभावना जताई गई है।

ट्रेंड फ्रोस के एक अनुसंधान प्रभाग डिस्पले मार्केट ट्रैकर विट्सव्यू के अनुसार, इस साल वैश्विक ओएलईडी टीवी शिपमेंट 7.8 प्रतिशत (वर्ष-दर-वर्ष) 33 लाख 75 हजार यूनिट तक बढ़ने की उम्मीद है।

वहीं दूसरी ओर वैश्विक क्यूएलईडी टीवी शिपमेंट इस वर्ष बाजार की अग्रणी तकनीकी दिग्गज सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स की ओर से बिक्री के आक्रामक प्रचार के साथ, इस साल 82 साख 70 हजार यूनिट तक (41.8 प्रतिशत की वृद्धि) बढ़ने की उम्मीद है।

विट्सव्यू ने कहा, “ओएलईडी टीवी बाजार को पैनल की आपूर्ति और उच्च खुदरा कीमतों के साथ दोहरी विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है।

दोनों बाजार के दिग्गज एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स और सोनी ने इस साल ओएलईडी टीवी के लिए अपने शिपमेंट लक्ष्य को संशोधित किया है।”

मार्केट ट्रैकर ओमडिया के अनुसार, जनवरी-मार्च की अवधि में सैमसंग शीर्ष टीवी विक्रेता रहा, क्योंकि इसने बिक्री के मामले में वैश्विक टीवी बाजार के 32.4 प्रतिशत हिस्से पर कब्जा किया।

एलजी डिस्प्ले ने पहले चीन के ग्वांगझू में अपनी ओएलईडी पैनल फैक्ट्री लगाने की योजना बनाई थी, जो साल की पहली तिमाही में बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू करना चाहती थी, मगर कोविड-19 के प्रकोप के कारण यह योजना सिरे नहीं चढ़ सकी।

कंपनी ने हाल ही में कहा था कि वह साल की पहली छमाही के भीतर ग्वांगझू कारखाने को पूरी तरह से संचालित करने की योजना बना रही है।

विट्सव्यू के अनुसार, ओएलईडी डिमांड में महामारी के कारण उत्पन्न मंदी के अलावा, क्यूएलईडी उत्पादों की अधिक लचीली कीमत इस साल ओएलईडी टीवी की बिक्री के लिए एक बड़ा खतरा बनेगी।

योनहाप की रिपोर्ट, हालांकि पूरे वैश्विक टीवी शिपमेंट में इस साल 5.8 प्रतिशत सालाना की गिरावट का अनुमान है, मगर साथ ही विट्सव्यू ने कहा कि इस दौरान क्यूएलईडी टीवी की बिक्री और बढ़ सकती है।

Loading...

Check Also

गुजरात: बड़ी संख्या में सूरत छोड़कर जा रहे हीरा उद्योग में काम करने वाले मजदूर

कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के मद्देनजर सूरत में हीरा इकाइयों के बंद हो जाने से इनमें ...