Breaking News

खाद्यान्नों की पैकेजिंग अब सिर्फ जूट की बोरी में ही होगी

सरकार ने जूट की खेती को बढ़ावा देने के लिए खाद्यान्नों के पैकेजिंग में शत प्रतिशत जूट की बोरी तथा कम से कम 20 प्रतिशत चीनी के लिए जूट बोरी का उपयोग करने का निर्णय लिया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की गुरुवार को यहां हुयी बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी दी गयी।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने एक संवाददाता सम्मेलन में बैठक की जानकारी देते हुये बताया कि सरकार के इस निर्णय से जूट की खेती को बढ़ावा मिलने के साथ ही मजदूरों को रोजगार मिलेगा। पश्चिम बंगाल, ओडिशा, असम, मेघालय, त्रिपुरा आदि राज्यों में बड़े पैमाने पर किसान जूट की खेती करते हैं। जूट उद्योग में चार लाख से अधिक मजदूरों को रोजगार मिलता है।

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि जूट की उत्पादकता और गुणवत्ता में वृद्धि के लिए एक कार्यक्रम चलाया जा रहा है और इसके तहत किसानों के प्रमाणिक बीज उपलब्ध कराये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इससे किसानों की आय प्रति हेक्टेयर दस हजार रुपये बढ़ेगी। वहीं बांग्लादेश से आने वाले जूट पर शुल्क बढ़ाया गया है ।

Loading...

Check Also

कृषि कानूनों पर बैठक रही बेनतीजा, किसान बोले- जारी रहेगा प्रदर्शन

केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली के विज्ञान भवन में सरकार ...