Breaking News

खतरे में पलानीसामी सरकार

चेन्नई: अन्नाद्रमुक (अम्मा) के उपमहासचिव टीटीवी दिनाकरण के विश्वासपात्र 19 विधायकों ने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीसामी को पद से हटाने की मांग करते हुए सरकार से समर्थन वापस लेने का ऐलान किया है। ऐसे में 234 सदस्यों वाली विधानसभा में सरकार बहुमत के आंकड़े (117) से नीचे जा सकती है। विधानसभा में अभी एआईएडीएमके के 135 विधायक हैं। माना जा रहा है कि कुछ और विधायक भी पाला बदल सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो पलानीस्ाामी की सरकार खतरे में पड़ जाएगी। सोमवार को ही एआईएडीएमके के दोनों धड़ों का विलय हुआ था। बताया जा रहा है कि दिनाकरण के समर्थक माने जाने वाले 17 विधायकों को पुडुचेरी के एक रिजॉर्ट में भेजा जा रहा है। माना जा रहा है कि गुजरात राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस द्वारा उठाए गए कदम की तर्ज पर, विधायकों को किसी भी तरह की टूट से बचाने के लिए ऐसा किया जा रहा है। इस बीच विपक्षी दल डीएमके के नेता एमके स्टालिन ने राज्यपाल सी.एच. विद्यासागर राव को चिट्ठी लिखकर मांग की है कि विधानसभा का सत्र तुरंत बुलाया जाए और सरकार से बहुमत साबित करने को कहा जाए।

दिनाकरण के समर्थक 19 विधायकों ने राज्यपाल को समर्थन वापसी के अलग-अलग पत्र लिखे हैं। चिट्ठी में कहा गया है, ‘मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने मेरे और जनता के विश्वास के साथ खिलवाड़ किया है, इसलिए मैं अपना समर्थन वापस लेना चाहता हूं। आपसे (गवर्नर) मामले में हस्तक्षेप किए जाने का आग्रह करता हूं और साथ ही चाहता हूं कि संवैधानिक प्रक्रिया अपनाते हुए आगे की कार्यवाही हो।’ विधायकों का कहना है कि उन्होंने यह मानते हुए पलानीस्ाामी को समर्थन दिया था कि वह एक अच्छे मुख्यमंत्री की तरह अपनी ड्यूटी पूरी करेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा।

Loading...

Check Also

कौन बनेगा नेपाल का प्रधानमंत्री ? केपी ओली, शेर बहादुर देउबा, पुष्प कमल दहल, गगन थापा, रामचंद्र पौडयाल या प्रकाश मान सिंह ? जोड़तोड़ जारी

संसद, काठमांडू काठमांडू : नेपाल में संसदीय चुनाव तो हो गये लेकिन प्रधानमंत्री कौन बनेगा ...