Breaking News

कोरोना वैक्सीन: गोरखपुर के अस्पताल में शुरू हुआ कोविड-19 वैक्सीन का ह्युमन ट्रायल

अशाेेेक यादव, लखनऊ। देश में कोरोना का कहर लगातार जारी है। वैश्विक महामारी के संक्रमण का प्रसार देश में रिकॉर्ड बना रहा है। कोरोना वायरस संकमण पर काबू पाने के लिये सभी देश दवा विकसित करने की कोशिश कर रहे है। इसी बीच गोरखपुर के एक अस्पताल में कोरोना वैक्सीन का ह्युमन ट्रॉयल की खबर सामने आई है। देश में 12 संस्थानों को क्लीनिकल परीक्षण के लिये चुना गया है।

बता दें, कि गौरखपुर शहर के राणा अस्पताल एवं ट्रामा सेंटर में कोविड-19 के टीका ‘कोवैक्सिन’ का मनुष्य पर क्लीनिकल परीक्षण शुरू हो गया है। अब तक 9 लोगों को उनकी इच्छा से टीका लगाया गया है। गोरखपुर के राणा अस्पताल और ट्रॉमा सेंटर में चिकित्सा सुविधा देशभर के उन 12 संस्थानों में शामिल हैं।

जहाँ भारत बायोटेक द्वारा विकसित वैक्सीन का मानव परीक्षण किया जा रहा है। यह अस्पताल पहले टायफायड और जापानी इन्सेफेलाइटिस (दिमागी बुखार) के टीकों का भी मनुष्य पर क्लीनिकल परीक्षण कर चुका है। अस्पताल की योजना दो चरणों में 100 स्वस्थ स्वयंसेवकों पर परीक्षण करने की है।

पहले चरण में 36 प्रतिभागी हैं। जिनमें से 22 को शुक्रवार को टीका दिया गया था। आठ विशेषज्ञों की एक टीम, जो अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान  के एक डॉक्टर, इन 22 स्वयंसेवकों के रक्त के सेंपल को 13 अगस्त को एकत्र करेगी। नमूनों को आईसीएमआर-मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला में एंटी-बॉडीज के लिए भेजा जाएगा। परीक्षण और डेटा विश्लेषण। इसी तरह के परीक्षण के लिए एक और सेंपल 27 अगस्त को लिया जाएगा।

चतुर्वेदी ने बताया कि भारत बायोटेक इंटरनेशनल द्वारा विकसित टीके ‘कोवैक्सिन’ की 34 खुराक की पहली खेप बुधवार को मिली। शुक्रवार को हमें जाइडस कैडिला द्वारा विकसित 20 कोवैक्सिन मिलीं। हम कंपनियों की ओर से जल्द ही और टीके मिलने की उम्मीद कर रहे हैं। भारत बायोटेक के टीके का मानव पर परीक्षण शुरू किया जा चुका है। जल्द ही जाइडस कैडिला के टीके का परीक्षण भी शुरू किया जाएगा।

अस्पताल के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी वेंकटेश चतुर्वेदी ने शुक्रवार को बताया कि परीक्षण बृहस्पतिवार की शाम डॉक्टर अजीत प्रताप सिंह और डॉक्टर सोना घोषण की निगरानी में शुरू हुआ। चतुर्वेदी ने बताया कि हम और वॉलेंटियर तलाश रहे हैं। उन्होंने कहा, ”अगर कोई स्वस्थ है, बारहवीं कक्षा पास है और 18 से 55 साल की आयु के बीच का है और चिकित्सकीय परीक्षण के लिए वॉलेंटियर बनना चाहता है।

Loading...

Check Also

उत्तर प्रदेश: स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव, अस्पताल से हुए डिस्चार्ज

अशाेेेक यादव, लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। हजारों ...