Breaking News

उत्तर प्रदेश की धरती कमाल: राष्ट्रपति

लखनऊ। अपने अभिनंदन समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने उत्तर प्रदेश की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का उल्लेख किया। यूपी की धरती से महामानव राम आये और उच्च आदर्शों का पालन किया। दूसरे महामानव कृष्ण भी यहां की धरती पर आए। अयोध्या, मथुरा, काशी, सारनाथ और फतेहपुर सीकरी से हिन्दू-मुस्लिम के आपसी सौहार्द का प्रतीक रहा है। भगवान बुद्ध का उत्तर प्रदेश से गहरा रिश्ता रहा है। उन्होंने कहा कि यूपी की धरती कमाल है। प्रयाग का कुंभ तो शोध का एक विषय है। ऐसे आयोजन सरकार से नहीं आस्था से चलते हैं। कम्पोजिट कल्चर को बढ़ावा देने के साथ राष्ट्रीयता और राष्ट्रहित को सर्वोपरि स्थान देने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का विशेष रूप से उल्लेख किया और कहा कि उन्होंने हमेशा ख्याल रखा कि सरकार बने न बने लेकिन राष्ट्रीयता सर्वोपरि होनी चाहिए ।

 

नौ प्रधानमंत्री लेकिन एक राष्ट्रपति

इसके पहले विधान परिषद के सभापति रमेश यादव, डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा, केशव मौर्य और यूपी बीजेपी अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पांडेय ने राष्ट्रपति का अभिनंदन किया। कोविंद आज उत्तर प्रदेश के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे। वह लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट से अम्बेडकर महासभा होते हुए इंदिरा गाँधी प्रतिष्ठान में अपने अभिनन्दन समारोह में शामिल हुए। इस मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ भी थे। राष्ट्रपति ने स्वागत के लिए सभी का आभार व्यक्त किया। राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बात मातृभूमि पर आए रामनाथ कोविंद ने कहा कि यूपी ने 9 प्रधानमंत्री दिए लेकिन एक बात कचोटती थी कि राष्ट्रपति नही बना। पहली बार इस प्रदेश से कोई राष्ट्रपति बना है। बागपत नाव हादसे पर जताया शोक जताया और कहा कि दुर्घटना की सूचना पर धर्मसंकट में था कि अभिनंदन समारोह में कैसे जाऊं। आपकी भावनाओं को ध्यान में रखकर यहां आया हूँ। नौका दुर्घटना में 22 लोगों की मौत बड़ी घटना है। मृतकों के प्रति संवेदनाएं हैं।

यहां मोहब्बत की मिसाल ताजमहल

उन्होंने कहा कि संविधान की मर्यादा के बीच मौलिक कर्तव्यों के साथ हर व्यक्ति राष्ट्र निर्माता है। यह अपना प्रदेश है, आता रहूँगा। यहां सेवन वंडर्स में ताजमहल आगरा में है जो मोहब्बत की मिसाल है। शिक्षा के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश सदा आगे रहा है। हस्तशिल्प, बनारस की साड़ी, अलीगढ़ के ताले और लखनऊ की तहज़ीब सबसे खास है। लखनऊ के पहले आप की परंपरा लोगों को आगे बढ़ाने की प्रेरणा देती है। इसलिये इस प्रदेश का होने पर गौरव महसूस करता हूँ। जितना कर सकूंगा इस प्रदेश के लिए करूँगा। मातृ भूमि के प्रति विशेष लगाव होता है।

Loading...

Check Also

बांग्लादेश ने दूसरे एकदिवसीय मुकाबले में भारत को 5 रन से हराया, तीन मैचों की श्रृंखला में भारत 2-0 से पीछे

ढाका : बांग्लादेश ने दूसरे एकदिवसीय मुकाबले में भारत को हरा दिया है। इसके साथ ...