Breaking News

मैसूर का दशहरा अपने अलग और विशेष अंदाज के लिए जाना जाता है

मैसूर। आज पुरे देश में दशहरा मना या जा रहा है चारो तरफ खुशी का माहौल है। हालाँकि सभी जगह दशहरा मनाया जा रहा है लेकिन मैसूर का दशहरा अपने अलग और विशेष अंदाज के लिए जाना जाता है। जिसके चलते यहाँ पर कई देशो के लोग दशहरा देखने के लिए ही मैसूर आते हैं।
क्योकि यहां पर दशहरा मनाए जाने के लिए लम्बी परम्परा का वहन किया जाता है। बुराई पर अच्‍छाई की जीत के रूप में मनाया जाने वाले दशहरा मनाने का अलग ही मजा है। नवरात्रि के दौरान मैसूर शाही परिवार के वंशज नौ दिनों की विशेष पूजा का आयोजन करते हैं जिसमे वे नौवें दिन ‘चंडी होम’ और ‘आयुद पूजा’ करते है। 10वें दिन ‘स्‍वर्ण पात्र’ में चामुंडेश्‍वरी देवी की मूर्ति को बिठाया जाता है।

कहा जाता है की ये परंपरा 400 साल पुरानी है जो 15वीं सदी में विजयनगर साम्राज्‍य के राजाओं ने इस पर्व को कर्नाटक में शुरू किया और तब से इस परम्परा को मैसूर के वाडयार राजाओं ने जारी रखा। इस साल अर्जुन हाथी पर जंबो सवारी होगी साथ ही मैसूर पैलेस से बन्‍नीमानताप तक हाथी, घोड़ों, ऊंट, गाजे-बाजे, ढोल-नगाड़ों के साथ इस सवारी को ले जाया जाता है।

Loading...

Check Also

डॉक्टर को दिखाने गई महिला को रोने पर देने पड़े 40 डॉलर, फोटो वायरल

एक अमेरिकी महिला ने हाल ही में शेयर किया कि उसकी बहन से एक डॉक्टर ...