Breaking News

पार्टी में बने रहने का कोई औचित्य मेरी समझ से परे है : राकेश शर्मा

मुजफ्फरनगर। जनपद में बसपा के वरिष्ठ नेताओं में शुमार पूर्व प्रत्याशी राकेश शर्मा ने पार्टी से अलविदा कह दिया। उन्होंने अपना त्यागपत्र पार्टी की मुखिया मायावती को भेज दिया है। मेरठ में आज होने वाली पार्टी की मंडलीय समीक्षा मीटिंग व रैली से पूर्व ही उनका त्यागपत्र देने से पार्टी में हड़कम्प मच गया है।

 

बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर 2017 के विधानसभा चुनाव में मुजफ्फरनगर सदर सीट से चुनाव लड़कर तीसरे नम्बर पर रहने वाले राकेश शर्मा ने बसपा सुप्रीमो मायावती को अपना त्यागपत्र भेज दिया। जिससे पार्टी में हलचल मची हुई है। यह त्याग पत्र ऐसे समय दिया गया हैए जबकि आज पार्टी मुखिया मेरठ में मंडलीय समीक्षा बैठक करने आ रही हैं।

राकेश शर्मा ने अपने त्यागपत्र में कहा कि यूपी विधानसभा चुनाव में पार्टी की शर्मनाक पराजय के बाद मुझे विश्वास था कि पार्टी में हार के कारणों की गहन समीक्षा होगी और कार्यप्रणाली में बदलाव लाया जाएगा। हर चुनाव में पार्टी द्वारा सोशल इंजीनियरिंग बदले जाने की वजह से समाज के विभिन्न वर्गों में अविश्वास की भावना बढ़ी है। यही वजह है कि चुनाव में गरीब स्वर्ण पिछड़ा तथा अति पिछड़ा वर्ग बसपा से पूरी तरह से छिटक गया है।

राकेश शर्मा ने मायावती से कहा कि आपने अल्पसंख्यक समाज को चुनाव में भारी संख्या में टिकट तो दिए पर एक भी ऐसा नेता तैयार नहीं कर पाये जिसकी अल्पसंख्यकों में पहचान और पकड़ हो। उन्होंने आगे कहा कि मुझे और मुझ जैसे विधानसभा चुनाव लड़ चुके तमाम लोगों को प्रतीत होता है कि पार्टी इतिहास के पन्नों की ओर अग्रसर हो रही है। पार्टी में स्वर्ण पिछड़े और अल्पसंख्यक दूर हो चुके हैं। आप उन्हें जोड़ने के लिए गंभीर नहीं हैं। अतः पार्टी में बने रहने का कोई औचित्य मेरी समझ से परे है।

Loading...

Check Also

यूपी को शीघ्रता से उर्वरक सप्लाई के लिए कृषि मंत्री शाही ने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन से की मुलाकात

राहुल यादव, लखनऊ : कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने उत्तर प्रदेश में डीएपी उर्वरक की ...